अर्जुन पुरस्कार – ये मिलता क्यों है ये कब शुरू हुआ ?

0
1087
अर्जुन पुरस्कार

अर्जुन पुरस्कार – उत्साह का दूसरा नाम-

अर्जुन पुरस्कार नाम भी इसका किसी मतलब के लिए रखा गया है | भारत के महाकाव्य ‘महाभारत’ में पांच पांडवो में एक अर्जुन थे जिन्हे बहुत बड़ा धनुर्धर माना जाता था |एक बार उनके गुरु ने अपने सभी शिष्यों को वन में ले जाके लक्ष्य भेदने को कहा | सबको धनुष देकर एक प्रश्न किया की ‘तुम्हे क्या दिख रहा है?’ – सबका अलग-अलग उतर था , किसी ने कहा -‘मुझे रस्सी दिख रही है’ , किसी ने कहा-‘ मुझे चिड़िया दिख रही’ और किसी ने कुछ कहा | केवल अर्जुन ही थे जिन्होंने कहा की -‘मुझे चिड़िया की आँख दिख रही है’ |और ये जवाब सुनकर उनके गुरु बहुत खुश हुए |

अर्जुन पुरस्कार (2)

अर्जुन पुरस्कार पहला किसको मिला –

अर्जुन पुरस्कार 1961 में शुरू हुआ | जो भारत सरकार द्वारा खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिये दिया जाता है| ये एक व्यक्तितगत खेल पुरस्कार है | इस पुरस्कार में खिलाडियों को अर्जुन की कांस्य की प्रतिमा और 5 लाख रूपए भेट स्वरूप दिया जाता है | 1961 ये पुरस्कार पहली बार दिया गया -पाने वालों में पहला नाम – क्रिकेट के खिलाडी -सलीम दुरानी , मैनुअल आरों को सतरंज के लिए , ल बी डी डिसूजा को बॉक्सिंग के लिए , सरबजीत सिंह को बास्केटबाल के लिए ,नंदू नाटेकर को बैडमिंटन के लिए ,गुरुचरण सिंह रंधवा को एथलीट के लिए मिला |

मैनुअल आरों –

ये पहले भारतीय सतरंज खिलाडी थे जिन्हे -इंटरनेशनल मास्टर का ख़िताब दिया गया था | और ये 9 बार सतरंज में राष्ट्रीय चैम्पियन थे |ये तमिलनाडु के थे और इन्होने अपना स्नातक प्रयागराज ( इलाहाबाद ) से किया था |1959 से 1981 के बीच 14 बार चैम्पियनशिप हुई और मैनुअल आरों उसमे 9 बार विजय रहे |

इन्हे इंटरनेशनल मास्टर का ख़िताब अपने मंगोलियन प्रतिद्वंदी को हराने पे मिला था |और तो और इन्होने स्टेट चैम्पियनशिप भी 11 बार जीती | और आज के दौर तमिलनाडु हमारा चैस खिलाडियों का एक हब है | तमिलनाडु से ही विश्वनाथन आनंद भी है जो वर्ल्ड के 5 बार विश्वा विजेता बने | सबसे गौर करने वाली बात ये है की तीरंदाजी में अर्जुन अवार्ड कृष्णा दास को 1981 में दिया गया |

सलीम दुरानी –

अर्जुन पुरस्कार (4)एक ऐसा क्रिकेटर जो जन्मा अफगानिस्तान में और भारत के लिए खेलते हुए इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच में १० विकेट लिए | इन्होने 29 टेस्ट मैच खेले | इन्होने एक फिल्म में भी परवीन बॉबी के साथ काम जिसका नाम था -चरित्र |ये भारतीय क्रिकेट के पहले अर्जुन अवार्डी है

ल बी डी डिसूजा-

बॉक्सिंग के पहले अर्जुन अवार्डी ल बी डी डिसूजा है और इनका कहना था की – मैं पहले जिस परिस्थति में था मैं उसी परिस्थति में अथक मेहनत की है | और एशियाई गेम्स के पदक विजेता थे | इन्हे स्पोर्ट कोटा से उस वक़्त में रेलवे में नौकरी मिली थी |इनके योगदान के लिए इन्हे बैडमिंटन के लिए पहले अर्जुन अवार्डी बनने का गौरव प्राप्त हुआ |

नंदू नाटेकर

अर्जुन पुरस्कार (5)नंदू नाटेकर भारत के लिए 100 राष्ट्रीय और अंतरास्ट्रीय ख़िताब जीता अपने 15 साल के करियर में |ये इंग्लैंड चैम्पियनशिप में ८ बार पहुंचे थे | और अपनी स्पोर्ट्स अकादमी चलाते थे |इनके योगदान के लिए इन्हे बैडमिंटन के लिए पहले अर्जुन अवार्डी बनने का गौरव प्राप्त हुआ |

गुरुचरण सिंह रंधवा-

अर्जुन पुरस्कार (7)गुरुचरण सिंह रंधवा भारत के बहुत ही अच्छे एथलिट थे |इनका जन्म पंजाब में हुआ था और एथलिट में गोल्ड मैडल जीता था एशियाई गेम्स में |इन्होने दो ओलंपिक्स में भी भाग लिया था |

ये हमारे हीरो है जिन्हे हमे याद करना चाहिए किसी भी बहाने से उस समय बहुत ही कम सुविधा होने के बावजूद ये हमारे लिए खेले देश के लिए खेले | अब चाहे क्रिकेट हो या बैडमिंटन या बॉक्सिंग हो या हर तरह लोग इनसे आकर्षित हो रहे है |हमारे नये खिलाडियों को इन पुराने खिलाडियों से प्रेरणा लेनी चाहिए |

भारत सरकार ने इन्हे पहले अर्जुन अवार्डी बनने का गौरव भी दिया |अभी तक ये पुरस्कार ७०० से ज्यादा लोगों को मिल चूका है |इस पुरस्कार देने का मतलब खिलाडियों का उत्साह बढ़ाना है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-राजिंदर गोयल – रणजी ट्राफी में ६०० विकेट लेना वाला एकलौता बॉलर –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here