असम राइफल का ‘बदलूराम का बदन ‘ गाना क्यों वायरल हो रहा है ?

0
803
असम राइफल

असम राइफल का ‘बदलूराम का बदन ‘

सबसे पहले तो आप को बता दे की इसकी म्यूजिक आपका मन मोह लेगा |इधर जो गाल वान वैली में फेस ऑफ हुआ है | उससे भी लोग भारत के हर रेजिमेंट के सांग सुन रहे है |ये कहानी वर्ल्ड वॉर -२ की है जहा पे जापान में भारत एक जवान बदलूराम की शहादत हो जाती है | लेकिन उनके जो साथी है उनको उसका नाम स्ट्राइक नहीं करता है | और वो आज भी बदलूराम के नाम का राशन ले रहे है |ये एक असम राइफल के गीत बहुत अच्छा बन पड़ा है | उसके लिरिक्स बहुत आकर्षित करते है | जिसकी लाइन है – ‘बदलूराम का बदन ज़मीन के नीचे है तो हमे उसका राशन मिलता है’ |भारत और अमेरिका के बीच चल रहे युद्धाभ्‍यास के दौरान अमेरिकी सैनिक भारतीय सैनिकों के साथ बदलूराम गाने पर डांस करते नजर आए|

युद्ध के समय जापानी सेना के साथ संघर्ष करते शहीद हुए राइफलमैन बदलूराम को समर्पित है। बदलूराम की मौत के बाद उनका क्‍वार्टर मास्‍टर उनका नाम हटाना भूल गया और उसकी जानकारी भी सेना को नहीं दे सका। इसके फलस्‍वरूप लगातार उनके नाम से राशन आता रहा।

हालांकि बाद में यही अतिरिक्‍त राशन उनकी रेजिमेंट के लिए वरदान साबित हुआ। द्वितीय विश्‍व युद्ध के दौरान जापानी सेना ने भारतीय जवानों की सप्‍लाइ काट दी। ऐसे में भारतीय बटैलियन ने बदलूराम के नाम से आए अतिरिक्‍त राशन से काम चलाया। पूरे युद्ध के लिए यह अतिरिक्‍त राशन निर्णायक साबित हुआ। बाद में भारतीय सेना ने सप्‍लाई लाइन बहाल की। शहीद होने के बाद भी अपने बटैलियन की मदद करने वाले बदलूराम की याद में यह गीत बनाया गया।

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-श्रद्धांजलि:सुशांत को इंस्टाग्राम ने कैसे दी श्रद्धांजलि-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here