गूगल पे क्यों हुआ 37,69,62,500 रूपए का मुकदमा ?

0
684
गूगल

गूगल और टेक कंपनी विवाद-

अमेरिकी टेक कंपनी गूगल पर 5 बिलियन डॉलर(37,69,62,500 ) का मुकदमा दर्ज किया गया है |वजह यूजर्स की प्राइवेसी से जुड़ा है ये दरअसल एक क्लास ऐक्शन लॉसूट है| इसके तहत गूगल क्रोम और गूगल की दूसरी सर्विस यूजर्स की तरफ से कुछ लोगों ने मिल कर Google पर मुकदमा किया है| उस यूजर का कहना है उसके प्राइवेट इंटरनेट को ट्रैक करने के लिए Google पर कैलिफोर्निया के सैन होज़े में 5 बिलियन डॉलर का मुकदमा किया गया है|

इनकॉग्निटो मोड में क्या सेफ है ब्राउज़िंग ?

Google Chrome में एक फीचर है – इनकॉग्निटो मोड, इसे लोग तब यूज करते हैं जब उन्हें कुछ प्राइवेट ब्राउजिंग करनी होती है|आम तौर पर लोगों की सोच ये रहती है कि इनकॉग्निटो मोड पर बिना अपना ट्रेस छोड़े ही ब्राउजिंग कर सकते हैं,लेकिन ऐसा नहीं है लोग अगर आपको ट्रेस करना चाहे तो कर सकते है |
कैलिफोर्निया के फेडरल कोर्ट में एक लॉ फर्म की तरफ से ये केस फाइल किया गया है |इस मुकदमे में कहा गया है कि कंपनी गूगल अनालिटिक्स, गूगल ऐड मैनेजर और दूसरे ऐप्लिकेशन और वेबसाइट प्लगइन के जरिए यूजर्स को ट्रैक करता है |इनमें स्मार्टफोन्स के ऐप्स भी शामिल हैं|

हर यूजर के लिए मांगे डॉलर –

इस शिकायत में गूगल से मुआवजे की मांग की गई है, इसमें कहा गया है कि गूगल ने फेडरल वायरटैपिंग और कैलिफोर्निया प्राइवेसी लॉ का उल्लंघन किया है| इसकी वजह से लाखों लोग जो 1 जून 2016 से इनकॉग्निटो मोड यूज कर रहे हैं वो प्रभावित हुए हैं हर यूजर्स के लिए 5,000 डॉलर के मुआवजे की मांग की गई है|

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं :-ग्रेटा थनबर्ग -16 साल की लड़की क्यों छपी टाइम के कवर पे ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here