चीन क्या फिर चौकाएगा?

0
590
चीन

चीन क्या फिर चौकाएगा?

जैसा की आप जानते है की कोरोना की शुरुवात चीन के वुहान शहर से ही हुई थी और नवंबर 2019 से चीन के वुहान में कोरोना का संक्रमण शुरू हुआ था। दिसंबर तक तो इस बारे में पता ही नहीं चल पाया। जनवरी में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ी तब पता चला कि कोई बीमारी फैल रही है। शुरुआत में चीन इस वायरस के असर का सही आकलन नहीं कर पाया।
चीन को वुहान में फैले कोरोना वायरस की भयंकरता का जैसे ही अंदाजा लगा, उसने इस इलाकों को देश के अन्य राज्यों से पूरी तरह संपर्क विहीन कर दिया।वुहान से बाहर आने और शहर में जाने पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई। साथ ही लोगों के घरों से निकलने पर भी प्रतिबंध लगा दिया। इसके बाद संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सैनेटाइजर का छिड़काव कराया गया।

चीन ने अपने यहाँ लगाई कड़ी पाबन्दी –

चीन की सरकार और प्रभावित क्षेत्रों के प्रशासन ने कोरोना वायरस को लेकर ऑनलाइन या ऑफलाइन चर्चा करने पर पाबंदी लगा दी। अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की गई।
कोरोना प्रभावित सभी इलाकों में स्वास्थ्य कोड नाम की प्रणाली तैयार करके लागू की गई। सभी लोगों को उनकी यात्रा रिकॉर्ड के मुताबिक लाल, पीला या हरे रंगों के कोड दिए जा रहे थे। इन्हीं कोड के आधार पर लोगों का इलाज भी शुरू किया गया था।
चीन की कई कंपनियों ने चेहरा पहचानने की प्रणाली शुरू कर दी। इस प्रणाली की मदद से सार्वजनिक स्थल पर मास्क नहीं पहनने वालों की पहचान की गई और उनके खिलाफ कार्रवाई की गई।
संक्रमित और बचाव के तरीके न अपनाने वाले लोगों की पहचान के लिए सोशल मीडिया की मदद ली गई। फिर ऐसे लोगों को सुरक्षात्मक उपाय अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया गया। कई शहरों में संक्रमितों की पहचान बताने वालों को इनाम भी दिया गया।

चीन1

प्रशासन ने हर खाली और अच्छे स्थान पर अस्थायी अस्पातल बनाने का काम शुरू किया और कुछ ही दिनों में अस्पतालों का बड़ा नेटवर्क खड़ा हो गया। जिम और स्टेडियम जैसी जगहों को अस्पतालों में तब्दील कर दिया गया। स्कूल-कॉलेजों को बंद कर दिया गया। मॉल्स, सिनेमा हॉल्स समेत सभी भीड़ वाली जगहों पर लोगों के जाने पर रोक लगा दी गई।

कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए चीन ने 549 राष्ट्रीय व राज्य राजमार्गों के साथ ही काउंटी और टाउनशिप सड़कों को पूरी तरह बंद कर दिया। देश के 12,000 से ज्यादा हाईवे वायरस प्रभावित इलाकों से अलग-थलग कर दिए गए थे। वहीं, प्रभावित इलाकों में 11,000 से ज्यादा स्वास्थ्य केंद्र बनाए गए थे। इन केंद्रों पर वो लोग जांच करा सकते थे, जिन्हें कोरोना वायरस संक्रमण का संदेह हो।चीन के 28 प्रांतों ने अंतर-प्रांतीय सड़क यात्री परिवहन बंद कर दिया था। 200 से ज्यादा शहरों में सार्वजनिक परिवहन बंद कर दिया गया था। इसके अलावा रेल परिवहन पर भी पाबंदियां लगा दी गई थीं।

चीन का वुहान शहर कब हुआ करोना मुक्त –

चीन के वुहान शहर में दिसंबर में सबसे पहला केस आया था और चीन ने अपनी कड़ी पाबंदी और नियम और इंफ्रास्टक्टर से केवल ३ महीने में ही वुहान को कोरोना मुक्त कर दिया है और लॉकडाउन खोल दिया है | और खुद को कोरोना मुक्त कर दिया और हर तरह की गतिविधि को चालू करने का निर्देश दिया है | स्कूल खुले , फैक्ट्री खुली , रेल सेवा , विबान सेवा खोल दी गयी |

चीन क्यों करने जा रहा है दुनिया को हैरान –

चीन के वुहान शहर में अभी जल्दी ही एक ही काम्प्लेक्स में ६ लोग करोना पॉजिटिव पाए गए | जिससे दुनिया भर में कहा जाने लगा की चीन के वुहान शहर में कोरोना फिर से लौट आएगा या लौट रहा है | इससे चीनी गोवेर्मेंट में भी खलबली मच गयी | और अभी तक चीन में केवल जोखिम इलाके में ही टेस्टिंग हुई थी वुहान में | लेकिन वुहान के १ करोड़ से ज्यादा आबादी वाले शहर को पूरी टेस्टिंग से गुज़रना होगा | चीन गोवेर्मेंट ने १० दिन के अंदर ये पूरी टेस्टिंग की योजना बनायीं है | जिससे पूरी दुनिया दंग रह गयी है |चीन की इस महत्वकांक्षी योजना का मतलब है कि हर रोज़ वुहान में दस लाख लोगों की टेस्टिंग की जाएगी | अभी हर रोज़ चालीस से साठ हज़ार तक की टेस्टिंग क्षमता है जिसे बड़े पैंमाने पर बढ़ाने की ज़रूरत पड़ेगी|40 से 50 लाख वुहान के लोगों की जांच पहले ही हो चुकी है. वुहान यूनिवर्सिटी में रोग जनक जीव विज्ञान के डिप्टी डायरेक्टर यांग झान्की ने ग्लोबल टाइम्स अख़बार से कहा, “वुहान बाक़ी साठ से 80 लाख लोगों की टेस्टिंग दस दिनों में करने में सक्षम है.अगर वास्तव में साठ से 80 लाखा लोगों की ही टेस्टिंग करनी है तब भी दस दिनों में पूरी टेस्टिंग करने के लिए हर रोज़ छह से आठ लाख लोगों की टेस्टिंग करनी होगी और यह एक चुनौती होगी|
विश्व स्वास्थ्य संगठन का मानना है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को नियंत्रित करने को लेकर चीन की जो कोशिशें रही हैं वो “शायद दुनिया के इतिहास में सबसे ज़्यादा महत्वाकांक्षी और आक्रामक” रही हैं|

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-आपदा प्रबंधन (Epidemic Act) कानून क्या है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here