चीन ने शुरू की ५ g नेटवर्क –

0
1130
५ g

चीन ने शुरू की ५ g नेटवर्क –

भारत में अभी हम ४ g नेटवर्क प्रयोग कर रहे है | पहले 2g  करते थे उसके बाद 3g  और फिर ४ g प्रयोग कर रहे है | 2g  से 4g  तक हमारे कनेक्टिविटी में बहुत सुधार हुआ | और नेट सर्फिंग की स्पीड भी तेज़ हुई | ५ g  का मतलब साफ है | और ज्यादा स्पीड और ज्यादा से ज्यादा बैंडविड्थ प्रयोग होंगे | और बहुत टावर के यूज़ होंगे | चीन ने ५ g  शुरू करके अपनी धाक दिखा दी है | चीन से पहले केवल अमेरिका , साउथ कोरिया , ब्रिटेन ने अपने देश में 5g  नेटवर्क शुरू किया है | आप समझ सकते हो की टेक्नोलॉजी की दुनिया में ये चीन की सबसे बड़ी छलांग है |५ g  नाम से ही फिफ्थ जनरेशन जिससे दावा किया जा रहा है की इंटरनेट की स्पीड बहुत तेज़ होने जा रही है |

चीन के ५० शहर में ये सेवा शुरू हुई है –

ये सेवा चीन के ५० शहरों में अभी शुरू हुई है उसमे शंघाई और बीजिंग भी शामिल है | ये सुपर फ़ास्ट प्लान का डाटा प्लान १२८ युआन ( करीब १३०० रूपए ) से लेकर ५९९ युआन ( करीब ६००० रूपए ) तक है |चीन में 5जी सेवा शुरू करने के लिए नेटवर्क संबंधी उपकरणों की सबसे ज़्यादा सप्लाई ख्वावे कंपनी ने की है. यह कंपनी कई अन्य देशों में 5जी नेटवर्क स्थापित करने में भी अहम भूमिका निभा रही है| चीन की कंपनी ख्वावे को अमेरिका ने अपने यहाँ बैन कर रखा है |

ख्वावे को अमेरिका क्यों कर रखा है बैन –

स्मार्टफोन बनाना वाली दुनिया के दूसरे नंबर की सबसे बड़ी कंपनी को ख्वावे आखिर अमेरिका ने क्यों बैन कर रखा है | ये कंपनी इंटरनेट राउटर्स और सर्वर जैसे वो तमाम उत्पाद बनाती है|इंटरनेट की दुनिया 4g इंटरनेट से आगे बढ़कर 5g की दुनिया में प्रवेश कर रही है|सरल शब्दों में कहें तो 5g इंटरनेट हमारी दुनिया को पूरी तरह बदल देगा|इंटरनेट की स्पीड मौजूदा स्पीड के मुक़ाबले कई गुना ज़्यादा होगी|

जब इंटरनेट ऑफ़ थिंग्स का दौर शुरू होगा तब ऑटोमेटेड कारों से लेकर, सभी घरेलू उत्पाद और हमारे शहरों की निगरानी करने वाले ड्रोन आपस में एक दूसरे से जुड़े जाएंगे| अमेरिका को डर है की चीन की सरकार इस कंपनी के जरिये दूसरे देशों की ख़ुफ़िया जानकारी हासिल कर सकती है |

इसके बाद अमरीकी सरकार ने अपने सहयोगी देशों, जिन्हें ‘फाइव आई ग्रुप’ कहा जाता है, में भी इन कंपनियों पर प्रतिबंध लगवाने की कोशिश की|ख्वावे(हुआवेई) और जेडटीई पर सबसे हालिया प्रतिबंध जापान की ओर से लगाया गया है| लोगों का ये भी कहना है की ट्रेड वॉर की वजह से भी ये हो सकता है और ख्वावे के खिलाफ कुछ बाज़ारों में डर पैदा किया जा रहा है वो भी राजनीतिक सहारा के साथ |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:जब आपके फ़ोन में व्हाट्सप ही आपका जासूस बन जाये –

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here