जूता : सबसे पहले कब बना ?

0
1216
जूता

जूता : जरुरत या फैशन ?

जूता आजकल की जरुरत है लेकिन क्या आपको पता है की सबसे पहले जूता कैसे और कब बनके तैयार हुआ |मानव समाज का जब विकास हुआ तो वो भोजन के इतर भी कुछ सोचने को बेबस हुआ | और अपने शरीर अपने पैरों की रक्षा कैसे हो इसके बारे में उसने विचार किया |

जूता (2)

जमीन की तपन और काटों और हर तरह के किलो से बचाव के लिए उसने सोचा की पैरों की रक्षा कैसे की जाये |पारंपरिक रूप से जूते चमड़ा, लकड़ी या कैनवास से बनाए जाते रहे हैं लेकिन उत्तरोत्तर रबर, प्लास्टिक और अन्य पेट्रोरसायन-व्युत्पन्न सामग्री से बनाए जाने लगे हैं। इस समय में भी जूते बहुत लोगों को नसीब नहीं होते है | क्योकि उनको खरीदने के क्षमता नहीं होती है | क्योकि पहले जूते चमड़े के आते थे जो की थोड़ा महंगे हुआ करते थे |

सबसे पुराना जूता –

दुनिया का सबसे पुराना चमड़े का जूता जो गोचर्म के एक ही टुकड़े से बना था और सामने तथा पीछे सीवन के साथ चमड़े की डोरी से बांधा गया था | ये जूता 2008 में आर्मेनियाकी की गुफा में पाया गया था | ये माना जाता है की ये 3500 ईसा पूर्व का है|माना जाता है की पकाये हुए चमड़े का प्रयोग जूते में कई वर्षों से ज्यादा नहीं किया जा सकता है और इसलिए जूता इससे पहले भी पहना जाता होगा |

भौतिक विज्ञानी मानते है की जूते का प्रयोग आज से 40000 वर्ष पूर्व भी हुआ होगा क्योकि उस समय ही लोगों की पैरों की उँगलियों की मोटाई कम हुई है उनका मानना है जूते पहनने की वजह से पैरों की उँगलियों की हड्डियों का विकास कम हुआ और वो पतली रह गयी |

जूतों का डिज़ाइन-

जूता (3)

सबसे पहले जूते के डिजाइन बिलकुल साधारण होते थे, प्रायः पैरों की चट्टानों, मलबे और ठंड से रक्षा करने के लिए चमड़े से बने मात्र पैर के थैले. चूंकि सैंडल की तुलना में जूते में चमड़े का उपयोग अधिक होता था, इसलिए उनका उपयोग ठंड के मौसम में अधिक प्रचलित था।

मध्य युग तक मुड़े जूतों का विकास हो चुका था, जिनमें पैर में बेहतर फिटिंग के लिए चमड़े को पैर के साथ बांधने के लिए फ्लैप या कर्षण डोरी होती थी। कारीगर अमीर लोगों के लिए विशेष तरह के जूते तैयार करते थे और 1800 के आस पास जूते बिना दाये -बाये पैर भेद किये जूते बनाते थे | फिर धीरे -धीरे जूते बनाने में और तरह के मैटेरियल प्रयोग होने लगे और जिससे जूते की कॉस्ट भी घटने लगी और हर पैर में जूता हो गया |चमड़ा, जो पूर्व शैलियों में प्राथमिक सामग्री होता था, अब महंगे महंगे जूतों में मानक रह गया है|

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-टिकटोक क्यों छोड़ रहा है हांगकांग ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here