थाइरॉयड क्या है ?

0
99
थाइरॉयड

थाइरॉयड किस में ज्यादा महिलाओं में या पुरषों में ?

थाइरॉयड नाम आजकल आपने बहुत जगह सुना होगा | ये बीमारी वैसे तो महिलाओं में ज्यादा पायी जाती है पुरषों की अपेक्षा |पुरषों में ये बीमारी केवल 0.5 % लोगों में जबकि महिलाओं में ये 5 % लोगों में पायी जाती है | इस दौर हमे बहुत सुनने को मिलता है की मेरा थाइरॉयड बढ़ गया | आये जाने थाइरॉयड कौन सी बला है | ये एक प्रकार की ग्रंथि होती है जो हमारे गले में पायी जाती है | इसका आकार तितली की तरह होता है |ये एक एंडोक्राइन ग्रंथि होती है जिसका आशय ये है की ये नलिकाविहीन ग्रंथि होती है | जो हार्मोन्स बनाती है |ये 2 प्रकार के होते है |

1- हाइपोथाइराइड
2- हाइपरथाइराइड

थाइरॉयड (3)

हाइपरथाइरॉयडमें अधिक मात्रा में थाइराइड हार्मोन बढ़ने लगता है | ये अधिकतर लोगों में देखा जाता है | जबकि हाइपोथाइराइड में ये कम बनता है |इससे जुडी भयंकर बीमारी थाइराइड कैंसर भी होती है |जीवन शैली में बदलाव लाकर संतुलित आहार लेकर और पर्याप्त मात्रा में आयोडीन का सेवन करके और तनाव कम करके इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है |

थाइरॉयड को समझते है –

थाइरॉयड एक एंडोक्राइन ग्रंथि होती है ये 2 प्रकार के हार्मोन्स बनाती है | थायरोक्सिन(टी4) और ट्राईआयोडोथायरोनिन( टी 3) |इन
हार्मोन्स का उत्पादन और स्राव दोनों TSH (स्टूम्यूलेटिंग हार्मोन्स ) से नियंत्रित होता है |थाइरॉयड ग्रंथि का ज्यादा या कम हार्मोन्स उत्पन्य होते ही थाइरायड की समस्या होने लगती है |थाइरायड की समस्या शरीर के प्रत्येक कोशिकाओं पे असर डालती है |

थाइरॉयड से होने वाली समस्या –

– हाइपरथाइराइड से होने वाली समस्या (हार्मोन्स बढ़ने लगता है )-
वजन कम होना
घबराहट , चिंता बढ़ना
थकान
सास फूलना
गर्मी ज्यादा लगना
कम नींद आना
अधिक प्यास लगना
आँखों में लालपन

थाइरॉयड (2)

2 -हाइपोथाइरॉयड से होने वाली समस्या ( हार्मोन्स का घटना )
वजन बढ़ना
नाख़ून और बालों का कमजोर होना
सर्दी ज्यादा लगना

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते:-बुखार में क्या खाये ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here