एक ऐसा इंसान जिसने न्यूज़ पेपर के टाइटल का सबसे बड़ा कलेक्शन रखा है ?

0
1042
न्यूज़ पेपर

एक ऐसा इंसान जिसने न्यूज़ पेपर के टाइटल का सबसे बड़ा कलेक्शन रखा है ?

हम सभी इंसान है और सबकी पसंद अलग -अलग होती है ।किसी को मिठाई पसंद होती है तो किसी को तीखा । कोई सिक्के संग्रह करना पसंद करता है तो कोई पुरानी गाड़ियों ।सबके अलग -अलग शौक होते है । आये बात करते है ऐसे ही शख्स की जिन्हे पत्रकारिता बहुत पसंद थी ।वो बनना तो एक खेल पत्रकार चाहते थे लेकिन न बन सके । लेकिन पेपर का शौक उनका अंदर ही था ।

फिर उन्होंने हर तरह के अलग -अलग टाइटल के पेपर संग्रह करना शुरू किया। अपने काम से वक़्त निकाल कर वो इस धुन में लगे रहते ।उनके पास आज के दौर में ११५ देशों के अलग -अलग टाइटल के न्यूज़ पेपर है ।आप सोच सकते है की ये चीजें संग्रह करने में कितनी दिक्कते आएँगी ।पुरे विश्व के उन्होंने २ तिहाई हिस्से को छुआ है ।

सर्जिओ बोदिनी कब से शुरू किया ये काम –

उनका नाम सर्जिओ बोदिनी  है वो इटली के रहने वाले है उनका खुदा का कलेक्शन १४४४ टाइटल का है ।और इसका संग्रह वो तब से कर रहे है जब वो केवल १० साल के थे । तब वो इन न्यूज़ पेपर को अपने बेडरूम में रखा करते थे ।लेकिन वो भी जगह छोटी पड़ गयी ।फिर इन्होने उन्हें रखने के लिए प्लास्टिक के बॉक्सेस ख़रीदे  और उन्हें वातावरण को नियंत्रत करने वाले जगह रखा ।जिसे वो सुरक्षित रह सके ।

सर्जिओ बोदिनी के दोस्त और पारिवारिक मित्र जहा भी जाते है उनके लिए न्यूज़ पेपर लाते जिससे उनकी हेल्प हो सके । वो कहते है की मेरा सपना की मैं हर देश के न्यूज़ पेपर को संग्रह करू पर वो एक कठिन काम है उन्होंने बताया की बहुत से इटेलियन न्यूज़ पेपर मेरा इंटरव्यू लेते है लेकिन उन्होंने उसे प्रकशित नहीं किया ।नहीं तो मेरे संग्रह में वो भी आप दिख सकता था ।

भारत में घटी उनके साथ मजेदार घटना –

उनसे जब पूछा गया जब आप अलग -अलग टाइटल के अलग -अलग देश के न्यूज़ पेपर संग्रह करते हो ।कभी कोई मजेदार वाकया हुआ क्या ? उन्होंने कहा हुआ था जब भारत के एक छोटे से गांव में था और एक व्यक्ति मुझे न्यूज़ पेपर लेना था ।  भाषा वो न्यूज़ पेपर की अलग थी जो की मैं पढ़ नहीं सकता था तो उसने मुझ  पे संदेह किया और मुझे पेपर देने से मना कर दिया ।उस न्यूज़ पेपर के लिए मुझे बहुत मस्सकत करनी पड़ी तब जाके वो माना ।

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:शिक्षक दिवस कब होता है और क्यों मनाते है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here