पतंजलि का समान क्या डाकघर से मिलेगा ?

0
627
पतंजलि

पतंजलि का समान और डाकघर –

पहले आप डाकघरों के महत्व का इस चीज से समझ सकते है जब फ़ोन का या तो अविष्कार नहीं हुआ था या आम लोग तक इसकी पहुंच नहीं थी तब डाकघर का महत्व बहुत था | सब लोगों की चिठ्ठी और पत्री से वार्तालाप हुआ करता था | लोग अपने परिवार से दूर लोगों से एक चिठ्ठी के माध्यम से ही बात करते थे | लेकिन जैसे -जैसे टेक्नोलॉजी आती गयी वैसे -वैसे डाकघर से लोगों जुड़ाव सीमित होता गया |

डाकघर के पुनरुद्धार के लिए क्या योजनाए –

पतंजलि (2)अब ऐसा दौर है की लोग कुछ सरकारी कागजात या राखी ही डाकघर के दवरा भेजते है | और सरकारी काम तक ही ये सीमित है | लेकिन कुछ सालों में डाकघर के पुनरुद्धार के लिए इसे बैंकिंग कार्य से जोड़ा गया और अब तो इसे एक माल की तरह विकसीत करने की सरकार की योजना है | पंतजलि से डाकघर का करार होने के बाद आप डाक घर से पंतजलि संस्थान का सामान प्राप्त कर सकेंगे, तो वहीं आपको यहां से मास्क, खादी और हर्बल का सामान भी मिल जाएगा|

डाकघर दवरा शुरू कॉमन सर्विस क्या है –

पतंजलि (3)डाकघर में कॉमन सर्विस सेण्टर सेवा आरम्भ होने वाली या कहे हो चुकी क्योकि देश के 256 डाकघरों में ये शुरू भी हो चुकी है |जहां लोग अपने कई बैंकों के लेनदेन के साथ रेलवे टिकट प्राप्त कर सकते हैं और साथ ही आवासीय, जाति व आय प्रमाण पत्र के लिए आवेदन भी कर सकते हैं|हालांकि प्रमाण पत्रों के लिए आवेदक को संबंधित विभाग जाकर ही प्राप्त करना होगा| वहीं डाक विभाग द्वारा सभी डाक घरों में मास्क, खादी और हर्बल का सामान भी बेचा जा रहा है|

कोरोना महामारी और पतंजलि से करार –

कोरोना महामारी के दैरान पतंजलि के साथ डाकघरों का करार हुआ है जिसे डाकघरों से आप पतंजलि का सामन प्राप्त कर सकते है | कोरोना काल में डाकघरों के भूमिका के लिए प्रधानमंत्री ने कई बार डाक बिभाग को बधाई दी |डाकघर ने आधार इनेबल सिस्टम के जरिये बैंकों से 400 करोड़ से ज्यादा रूपए लोगों के घरों तक पहुंचाने का कार्य किया है | जैसे -जैसे दुनिया टेक्नोसेवी हो रही है | सरकारी बिभाग भी बदल रहा है | और अगर जो नहीं बदलेगा वो इस ज़माने में पिछड़ जायेगा |और बहुत सी इ -कॉमर्स साइट है जो भारत में सामान घर -घर तक पंहुचा रही है |

डाकघर के इस मुहीम का समर्थन –

डाकघर के इस मुहीम का हमे भी समर्थन करना चाहिए | अभी तो केवल पतंजलि के उत्पाद से करार हुआ धीरे -धीरे सब उत्पाद आ जायेंगे | ये सोच एक आगे बढ़ने की अच्छी सोच है | अगर प्राइवेट सेक्टर से गोवेर्मेंट सेक्टर को कम्पीट करना है तो ऐसे परिवर्तन लाने पड़ेंगे | जिससे ऐसी संस्थानों को बचाया भी जा सकेगा और हम आगे भी बढ़ेंगे |पतंजलि के कई प्रोडक्ट वैसे तो बहुत ही अच्छे है लोगआजकल उनका बहुत ज्यादा ही प्रयोग कर रहे है जैसे घी , पेस्ट और काढ़ा भी इस कोरोना काल में बहुत ही बिका है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते है:-सलवार कमीज: जो पहनते है क्या उसके बारे में जानते है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here