‘फ्री द निप्पल’ मूवमेंट क्या है और कहा तक सफल रहा ?

0
955
फ्री द निप्पल

‘फ्री द निप्पल’ मूवमेंट क्या है और कहा तक सफल रहा ?

‘फ्री द निप्पल’ मूवमेंट  एक तरह का मूवमेंट है जिसमे महिलाये पुरषों की तरह ही टॉपलेस पब्लिक प्लेस पे घूम सके इसका अधिकार की मांग कर रही थी | उनका मानना है की महिलाओं का शरीर कोई सेक्ससुअल ऑब्जेक्ट नहीं है |और उन्हें भी पुरषों की तरह अधिकार मिलना चाहिए |

फ्री द निप्पल

इस मूवमेंट को प्रसिद्धि तब ज्यादा मिली जब स्काउट विल्ली अर्धनग्न होकर न्यूयोर्क की सड़कों पे दिखाई दी | वो भी इस मूवमेंट को सपोर्ट कर रही थी |इस मूवमेंट के लिए न्यूयोर्क में कई जगह पे प्रदर्शन करने वालों ने टॉपलेस होकर प्रदर्शन किया |

पुरषों को भी क्या १९३० से पहले टॉपलेस होना लीगल नहीं था ?

ये बात १९३० की है जब ४ पुरषों को तो टॉपलेस होने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया गया था कोने आइलैंड में |फिर पुरषों ने लड़ाई लड़ी वहाँ की सरकारों से और उन्होंने लॉ को चेंज किया और समाज की नजरिया को भी बदल दिया | और १९३६ आते -आते पुरषों के नंगे छाती लोगों हामी भर दी |

ये एक सामान्य सी बात हो गयी |इसलिए परिवर्तन के लिए तो सबको एक दिन लड़ना ही पड़ता है | फिर क्यों ८० साल औरते इस चीज के लिए लड़ नहीं सकती और प्राप्त नहीं कर सकती अपनी छाती के लिए |

क्या अमेरिका के ६ राज्यों  में महिलाये भी टॉपलेस होकर घूम सकेंगी –

‘फ्री द निप्पल’ मूवमेंट केस कोर्ट में चला गया | और उसपे फैसला भी आ गया है | और ये कह सकते है की अमेरिकी महिलाओं की ये जीत हुई है | और कोर्ट ने अमेरिका के  ६ राज्यों में महिलाओं को टॉपलेस होकर घूमने की इजाजत दे दी | और वो ६ राज्य है क्रमशः व्‍योमिंग ,उताह ,कोलोराडो ,कैनसस,न्यू मेक्सिको,ओक्लाहोमा है |पहले १० साल की उम्र की लड़कियों को टॉपलेस घूमने के कानून था |

लेकिन कई महिलाये इसका विरोध भी किया था | और तो और कोलोराडो स्टेट ने तो इस फैसले के खिलाफ २ करोड़ भी खर्च कर दिए | लेकिन केस हारनेके बाद स्टेट के स्पोक पर्सन ने कहा की हमे इतने पैसे किसी अच्छी चीज पे लगाने चाहिए थे | ये फैसला आने के बात इन ६ स्टेट के महिलाये सितम्बर के लास्ट वीक से टॉपलेस होकर घूम सकती है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:थॉमस कुक का अंत – १७८ साल पुरानी ट्रेवल कंपनी क्यों डूब गयी ?

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here