बर्थ टूरिज्म आखिर है क्या ?

0
122
बर्थ टूरिज्म

बर्थ टूरिज्म का क्या है आशय –

बर्थ टूरिज्म नाम क्यों आया|आखिर ये शब्द यूँ ही क्यों उठ रहा है क्योकि ट्रम्प ने अमेरिका में एक नया वीजा नियम प्रकाशित किया था जिसका लक्ष्य अमेरिका में ‘बर्थ टूरिज्म’ पर रोक लगाना था।दरअसल इसमें कोई महिला अपने बच्चे को जन्म देने के लिए अमेरिका आती है ताकि उसके बच्चे को अमेरिकी पासपोर्ट मिल सके।संघीय पंजी के नियम के अनुसार अगर वाणिज्य दूतावास यह तय कर देते हैं कि महिला का मकसद मुख्य तौर पर अमेरिका में बच्चे को जन्म देना है तो आवेदनकर्ता को वीजा नहीं मिलेगा।जन्म पर्यटन(बर्थ टूरिज्म )उस देश में जन्म देने के उद्देश्य से दूसरे देश की यात्रा करने की प्रथा है।

जन्म पर्यटन का मुख्य कारण जन्मजात नागरिकता वाले देश में बच्चे के लिए नागरिकता प्राप्त करना है। दरअसल बीते कई सालों से अमेरिका और कुछ अन्य देशों में बर्थ टूरिज्म काफी फल-फूल रहा था। और तो और इससे जुड़ी कंपनियां इसके लिए विज्ञापन भी देती हैं और होटल के कमरे और चिकित्सा सुविधा आदि के लिए फिक्स रकम वसूलती हैं। रूस और चीन जैसे देशों से कई महिलाएं बच्चे को जन्म देने के लिए अमेरिका आती हैं।

अमेरिका और कनाडा में ही क्यों बर्थ टूरिज्म –

सीधे शब्दों में कहे तो कई देशों में ऐसा नियम कानून है की बच्चों को जन्म से ही नागरिकता मिल जाती है|अमेरिका और कनाडा में है ऐसा ही है | इस कानून का कभी -कभी लोग बेजा फायदा लेते हुए दीखते है |बच्चों का जन्म एक तरीके से अमेरिका में कराते है और खुद उसके माता-पिता होने की वजह से अमेरिका की नागरिकता पा लेते है | और इसी बर्थ टूरिज्म कहा जाता है |ये विकसित देशों की ही नागरिकता पाने के लिए किया जाता है क्योकि वहाँ की पब्लिक स्कूलिंग़ के लिए और अच्छे स्वास्थ सुविधा के लिए और फ्यूचर को सिक्योर करने के लिए करते है इसलिए इन देशों में बर्थ टूरिज्म देखने को ज्यादा मिलता है |

लेकिन आप कह सकते है की और भी देश है जो विकसित है लेकिन वहाँ इतने समस्या नहीं है क्योकि वहाँ की पालिसी जो वो थोड़ी अलग है |वहाँ अगर आप का बच्चा वहाँ पैदा भी हो गया तब भी वो आपके बच्चे को वहाँ की नागरिकता नहीं देते जब तक बच्चे का कोई भी पैरेंट मतलब बच्चे के माता -पिता में से कोई भी उस देश का निवासी न हो |इस पालिसी को मानने वाले देश में फ्रांस , नीदरलैंड , यूनाइटेड किंगडम ,जर्मनी ,साउथ अफ्रीका ऐसे कई देश है |

बच्चे को अमेरिका की नागरिकता के लिए 80000 डॉलर तक लिया जाता था –

अमेरिका में एक चीनी नागरिक को पकड़ा गया था जो अमीर चीनी नागरिकों के बच्चों को अमेरिका की नागरिकता दिलाता था और अपनी सेवाओं के लिए ग्राहकों से 40 हजार से 80 हजार डॉलर की राशि ली। ‘बर्थ टूरिस्म’ योजना के संबध में ली और 19 अन्य अभियुक्तों के खिलाफ दर्ज आरोपों के अनुसार ग्राहकों को इस बात का प्रशिक्षण दिया जाता था कि उन्हें अमेरिकी आव्रजन नियंत्रण से कैसे बचना है और गर्भवती होने की बात को कैसे छुपाना है।

इस मामले में ली को 15 साल कारावास की सजा हो सकती है। ये कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी की लोग नागरिकता पाने के लिए इतने पैसे खर्च कर रहे थे |जैसा -जैसे देश या कहे राष्ट्र का चरित्र बदल रहा है उसी तरह वहाँ के नागरिकों का भी चरित्र बदल रहा है |सबका अपना -अपना राष्ट्रवाद है लोग अच्छे भविष्य के लिए अपने देश के साथ साथ अपने झंडे भी बदल रहे है | हमारा काम है की आपको हमेशा एक नयी सोच के साथ छोड़ के जाने का और फिर आप अपने विवेक से समझे |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते है:-राकेश टिकैत :एक इंस्पेक्टर से किसान नेता का सफर –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here