अब बाइक बताएगी कहा किया था पार्क ?

0
226
बाइक

बाइक और ब्लूटूथ तकनीक –

हर दिन हम नयी तकनीक से जुड़ रहे है धीरे -धीरे परिवर्तन हर जगह देखने को मिल रहा है | पहले के दौर में लोगों के पास मुश्किल से मोटर बाइक हुआ करती थी बहुत तेल भी खाती थी और बहुत महंगी भी थी |लेकिन धीरे -धीरे टेक्निक बढ़ती गयी और अब हर हाथ में बाइक हो गयी | अब तो नयी बाइक इलेक्ट्रिक से चलने वाली भी आ गयी है |न पॉलुशन न कुछ | इसलिए अगर टेक्नॉलॉजी बदलती है वो हर तरह से प्रभाव डालती है कहे की हर इक्विपमेंट पर अपना प्रभाव डालती है | उसकी बात करने जा रहा है की यामाहा ने अब अपने बाइक में ब्लूटूथ की भी सुविधा शुरू की है |

ये क्या है ब्लूटूथ कनेक्टिवटी –

यामाहा इंडिया ने एफज़ैडएस 150 सीसी मोटरसाइकिल के साथ ब्लूटूथ कनेक्टिविटी पेश की है यह ब्लूटूथ कनेक्टिविटी सिस्टम सिर्फ यामाहा एफज़ैडएस डार्क नाइट एडिशन के साथ पेश किया गया है जिसकी दिल्ली में एक्सशोरूम कीमत 1 लाख 07 हज़ार रुपए है|इस ब्लूटूथ कनेक्टिविटी सिस्टम को एफज़ैड-एफआई और एफज़ैड-एफआई १५० के पूरी रेंज के साथ लगाया जा सकता है |और इस तकनीक से आप बाइक की लोकेशन ई-लॉक, हेज़ार्ड लाइट्स, राइडिंग हिस्ट्री के साथ पार्किंग रिकॉर्ड के बारे में पूरी जानकारी रख सकते है | वैसे भी यामाहा दो पहिया वाहन बनाने में और उसे नयी तकनीक से जोड़ने के लिए जनि जाती है |

कैसे काम करता है ये ब्लूटूथ –

नई यामाहा कनेक्ट एक्स मोबाइल ऐप के ज़रिए मोटरसाइकिल की लोकेशन, ई-लॉक, हेज़ार्ड लाइट्स, राइडिंग हिस्ट्री के साथ पार्किंग रिकॉर्ड जैसे फीचर्स का उपयोग किया जा सकता है यूज़र को इस ऐप की मदद से दूरी, ऐवरेज स्पीड, ब्रेक की संख्या और बैटरी के वोल्टेज की जानकारी मिलती है और इसके अलावा आखरी बार आपने मोटरसाइकिल कहां खड़ी की थी, इसकी जानकारी भी मिलती है अब इससे आप बाइक खड़ा की थी इससे छुटकारा पा गए है |क्योकि बहुत बार ऐसा होता है हम अपनी बाइक कहा खड़ा किया भूल जाते है | इस ऐप में टर्न-बाय-टर्न नेविगेशन और कॉल आने की जानकारी नहीं मिलती जो टीवीएस और हीरो में मिल रही है|

यामाहा का क्या कहना है इस बाइक के लिए –

यामाहा मोटर इंडिया के चेयरमैन, मोतोफुमी शितारा ने कहा कि, “हम भारत में अपनी मोटरसाइकिलों के द्वारा ग्राहकों के खरीद की खुशी को बढ़ाने और व्यक्तिगत कस्टमर सर्विस देने के लिए प्रतिबद्ध हैं और कनेक्टेड तकनीक के ज़रिए हम अपने ग्राहकों के राइडिंग अनुभव को और अच्छा बनाना चाहते हैं यामाहा मोटरसाइकिल कनेक्ट एक्स ऐप्लिकेशन बहुत काम ही साबित होगी जिसमें बाइक चलाने वाले को बहुत सारी जानकारी मिलेगी और जल्द ही इसे भारत में कंपनी के बाकी लाइन-अप के साथ भी पेश किया जाएगा |बाइकर को शानदार अनुभव कराने के लिए इस ऐप के हर एक फीचर को एक मैथड पर बनाया गया है”|

बाइक (4)मशीन पर निर्भरता कुछ ज्यादा तो नहीं बढ़ी-

आने वाले समय में लगता है की सब कुछ मशीन पर ही निर्भर न हो जाये | इससे हमे बल तो मिलता है लेकिन कही ऐसा न हो हमारी निर्भरता जो बेशक बड़ी है मशीनों पर कुछ ज्यादा न हो जाये और हम बिना मशीन के एक कदम भी आगे न बढ़ पाये|सोचने की जो भी शक्ति है या कहे मेमोरी भी कम हो रही है | इसके यही कारण है | पहले लोगों को मोबाइल नंबर याद रहा करते थे लेकिन अब लोगों को नंबर याद नहीं रहते है |हर कुछ अपने फ़ोन में ही फिट कर रखा है | रनिंग के लिए भी इलक्ट्रोनिक वाच है जो सब कुछ बताती है कुछ चला किना कैलोरी बर्न की |

अविष्कार अच्छा -बुरा नहीं होता है-

कही ऐसा न हो की मनुष्य मशीन को चला रहा और मशीन ही न मनुष्य को चलाने लगे |ये तो हमारी अपनी राय है | क्योकि अविष्कार अच्छा -बुरा नहीं होता है क्योकि परमाणु से बम भी बनता है कई जगह लोगों को बिजली भी बना के देता है | इसलिए सही उपयोग ही सही प्रबंध है |रही बात विकास की तो हम आदिमानव से यहाँ तक पहुंच गये ये विकास ही तो है | विज्ञानं हर जगह है चाहे लोग उसे माने या न माने | वो आपको कही -नहीं -कही से प्रभावित जरूर करता है | विज्ञानं ही सत्य है |हम तो अब यहाँ तक पहुंच गये है की मनुष्य कैसे सोचता उसका जीता जगता उदाहरण आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस है|

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:Doosra ऍप :नहीं करना पड़ेगा अपना नंबर अब शेयर –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here