बैंक ने कैसे बनाया अपने 5 कर्मचारी को अरबपति ?

0
412
बैंक

बैंक ने कैसे बनाया अपने 5 कर्मचारी को अरबपति ?

आप सोच रहे होंगे की बैंक ने कोई लाटरी निकाली होगी या कोई स्कीम निकाली होगी | जिससे ये कर्मचारी अरबपति हो गये होंगे | लेकिन ऐसा नहीं है |सबसे पहले मैं आपको उस बैंक का नाम बताता हूँ जिसने ये कारनामा करके दिखाया है | उस बैंक का नाम है -कोटक महिंद्रा बैंक – ये प्राइवेट बैंक में अपनी एक अलग ही पहचान रखता है | अब आपको बताते है कोटक बैंक के 5 कर्मचारियों के अरबपति होने की कहानी – जब आप बैंक में ऊचे पदों पे रहते है तो बैंक कुछ शेयर आपको देता है जिसे एम्प्लॉइज स्टॉक्स ऑप्शन यानी ESOPs के रूप में दिए जाते है ये आपके सैलरी पैकेज का एक हिस्सा होता है | अब हुआ यूँ की बैंक ने अपने शेयर अपने बहुत से एम्प्लाइज को दिए एम्प्लॉइज स्टॉक्स ऑप्शन के रूप में | लेकिन बहुत से एम्प्लॉइज ने शेयर सेल कर दिए | बहुत ने शेयर नहीं बेचा और ये हुआ की कोटक बैंक के शेयर में उछाल आया जिससे की उनके भी शेयर के दाम एकदम से बढ़ गये और वो अरबपति बन गये | पिछले कई सालों में कोटक बैंक ने अपने कई कर्मचारी को अरबपति बनाया है |

बैंक (2)

बैंक को जो 5 टॉप एग्जीक्यूटिव अरबपति बने है -उनके नाम –

– गौरांग शाह,(बैंक के प्रेसिडेंट)
-नारायण एसए,(बैंक के प्रेसिडेंट) कमर्शियल बैंकिंग
-दीपक गुप्ता,( बैंक के जॉइंट मैनेजिंग डायरेक्टर)
-जयमिन भट्ट,(बैंक के प्रेसिडेंट और ग्रुप सीएफओ)
-शांति एकंबरम,(कंज्यूमर बैंकिंग के प्रमुख)

बैंक के प्रेसिडेंट नारायण एसए के पास मौजूद शेयरों का मूल्य 141 करोड़ रुपये है,नारायण उन कुछ प्रोफेशनल्स में से हैं जिन्होंने 90 के दशक की शुरुआत में ही कोटक समूह जॉइन कर लिया था| बैंक के प्रेसिडेंट गौरांग शाह के पास मौजूद शेयरों का मूल्य 103 करोड़ रुपये पहुंच गया है|कोटक बैंक के जॉइंट मैनेजिंग डायरेक्टर दीपक गुप्ता के पास मौजूद शेयरों का मूल्य 144 करोड़ रुपये है|कोटक महिंद्रा के कंज्यूमर बैंकिंग के प्रमुख शांति एकंबरम के पास मौजूद शेयरों का मूल्य 190 करोड़ रुपये है|बैंक के प्रेसिडेंट और ग्रुप सीएफओ जयमिन भट्ट के पास मौजूद शेयरों का मूल्य 160 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है| भट्ट 1985 में इस समूह से जुड़े थे और वह 2000 के दशक में ग्रुप सीएफओ बने थे| इससे आप समझ सकते है की कोटक बैंक अपने कर्मचारियों सीधा तो नहीं लेकिन एक परोक्ष फायदा पंहुचा रहा है जो उससे लम्बे समय तक जुड़े रहे है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-टिड्डयां क्यों बनी जी का जंजाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here