भारत के ५ नोबेल प्राइज विनर

0
63
badminton भारत allgyan

भारत के ५ नोबेल प्राइज विनर:

१- रबीन्द्रनाथ टैगोर
२-सी वी रमन
३-मदर टेरसा
४-अमर्त्य सेन
५-कैलास सत्यार्थी

१-रबीन्द्रनाथ टैगोर –

भारत के बहुत ही लोकप्रिय और प्रसिद्ध कवि थे | इन्हे साहित्य के क्षेत्र में हमारी आज़ादी से पहले १९१३ में नोबेल से सम्मानित किया गया था और ये किसी भी भारतीय के लिए गर्व की बात है | ये साहित्य के क्षेत्र मिलने वाला सबसे बड़ा सम्मान है जो की एक भारतीय को मिला | और रबीन्द्रनाथ टैगोर ने आज़ाद भारत के राष्ट्र गान को अपने हस्तलिपि से सजाया “जन गण मन” इन्होने ही लिखा | और आश्चर्चकित करने वाली बात ये है की इन्होने ही बांग्लादेश के राष्ट्र गान की भी लिखा ‘अमर शोनार बांग्ला’ और श्रीलंका का राष्ट्र गान भी इनकी पोएट्री से प्रभावित बताया जाता है|

Rabindranath tagore भारत allgyan

२- सी वी रमन –

ये भारत के वेज्ञानिक थे जिन्हे भौतकी के क्षेत्र में १९३० में नोबेल प्राइज से सम्मानित किया गया | प्रकाश के प्रकड़ण पे शोध किया और उसका नाम इनके नाम पे ही रमन इफ्फेक्ट पड़ा |

भारत c v raman

३- मदर टेरसा –

इन्हे शांति का नोबेल पुरस्कार दिया गया १९७९ में और ये कैथोलिक नन थी | जिन्होंने खुद ही भारत की नागरिकता ली | इन्होने अपना नाम बदल कर टेरसा रख लिया | ९ सितम्बर २०१६ को वेटकन पॉप ने उन्हें संत की उपाधि दी |

भारत mother teresa

४ -अमर्त्य सेन –

इन्हे १९९८ में नोबेल दिया गया | जो की इकनॉमिक स्टडीज में था |इनका जन्म ३ नवंबर १९३३ को शांति निकेतन -कोलकत्ता में था | इन्होने अर्थशास्त्र के क्षत्र में अच्छा काम किया | ये हॉवर्ड विश्यविद्यालय में अध्यापक भी रहे |

amritya sen भारत

५ – कैलाश सत्यार्थी –

इन्हे शांति का नोबेल पुरस्कार २०१४ में दिया गया | भारत के मध्य प्रदेश की बिदिशा में जन्मे कैलाश जन्म से सबका सहयोग करने की प्रतिभा रखते थे | इन्हे कोई बालक काम करता हुआ दिखे तो इन्हे अच्छा नहीं लगता | ये बाल श्रम के एकदम विरोधी थे |इन्होने १९९० बचपन बचाओ आंदोलन की स्थापना की और उससे इन्होने १४४ देशों के ६३००० बच्चों के लिए कार्य कर चुके है |

भारत kailash satyarthi

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं : भारत के ५ वैज्ञानिक जिसने रचा इतिहास ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here