मस्तिष्क : आये जाने मेडिकल की दुनिया से –

0
122
मस्तिष्क

मस्तिष्क : कई अनसुलझे सवाल –

मनुष्य का दिमाग है वो 1 .4 किलो ग्राम या 3 पौंड का है और ये बिलियन सेल का मिलकर बना है जिसे हम मेडिकल की भाषा में न्यूरॉन्स कहते है |और जहा जुड़ाव होता है न्यूरॉन्स का उसे हम स्य्नाप्सेस कहते है | स्य्नाप्सेस केमिकल और इलेक्ट्रिकल सन्देश को न्यूरॉन्स से मनुष्य  के मस्तिष्क तक पहुंचाते है | ये जो प्रक्रिया होती है वो एक बेसिक सेंसरी फंक्शन होता है जो की सिखने और याददास्त और ज्ञान सम्बधि बातें सिखने का जरिया है |

मस्तिष्क (2)

ब्रेन या मस्तिष्क के तीन भाग है -हिंडब्रेन , मिडब्रेन ,फोरब्रेन | जब भ्रूण का विकास होता है तो मस्तिष्क के सबसे पहले निचला रीढ़ बनता है उसके बाद ऊपर का रीढ़ बनता है और भ्रूण का विकास के साथ ही ये तीनो -हिंडब्रेन , मिडब्रेन ,फोरब्रेन साफ़ दीखता है |

हिंडब्रेन-

ये मेडुला ओब्लोंगटा और पोंस से बना होता है | मेडुला सिंगनल ट्रांसमिट करता है स्पाइनल कॉर्ड और मस्तिष्क के ऊपरी हिस्से के बीच और तो और ये हार्टबीट को भी निंयत्रित करता है ये भी कह सकते है की ये स्वचलित तंत्रिका तंत्र को निंयत्रित करता है |

मिडब्रेन-

मस्तिष्क (3)

सबसे पहले ये नाम से ही पता चल रहा है की ये हिंडब्रेन और फोरब्रेन को कनेक्ट करता है |ये हिस्सा स्तनधारी में बहुत ही कम होता है | लेकिन पक्षियों में होता है |

फोरब्रेन-

इसके दो भाग होते है पहला है – थैलमस और दूसरा है – हाइपोथैलेमस | थैलमस -ये मेडुला और केरेब्रम का रिले सेन्टर है औरहाइपोथैलेमस पुरे शरीर के सेक्स ड्राइव को कण्ट्रोल करता है | दर्द , खुशी, भूख , प्यास , ब्लड प्रेशर , बॉडी तापमान सब कण्ट्रोल करता है | हाइपोथैलेमस कई तरह के हार्मोन्स उत्पन्य करता है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते:गर्भावस्था के 3 मिथक –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here