विश्व तंबाकू निषेध दिवस -क्या है सेकेंड हैंड स्मोकिंग?

0
918
विश्व तंबाकू निषेध दिवस

World No Tobacco Day -क्या है सेकेंड हैंड स्मोकिंग?

ज्यादातर लोग आजकल धूम्रपान करते हैं और धीरे-धीरे उन्हें इसकी लत लग जाती है। धूम्रपान काफी नुकसानदायक आदतों में से एक है। धूम्रपान या तंबाकू का सेवन करना चाहे वो किसी भी रूप में हो, ये एक तरीके का साइलेंट किलर होता है। ये आपके स्वास्थ्य को काफी नुकसान पहुंचाता है साथ ही ये आपकी जीवन को भी कम करने का काम करता है। धूम्रपान करने वाले कभी भी आसानी से इससे दूर नहीं रह सकते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि गर्भवती महिलाओं के लिए धूम्रपान करना एक तरीके से अपना जीवन खतरे में डालने जैसा ही है।

क्या है सेकेंड हैंड स्मोकिंग-

आप अक्सर ये सोचते हैं कि आप धूम्रपान नहीं करते इसलिए आप हमेशा स्वस्थ रहेंगे तो ये धारणा आपकी गलत है।सेकेंड हैंड स्मोकिंग का आशय ये है की अगर आप किसी धूम्रपान करने वाले शख्स के आसपास या बगल में बैठे हैं तो आप धूम्रपान के धुएं के संपर्क में आते हैं तो ये सेकेंड हैंड स्मोकिंग ही होती है और इसका असर भी बहुत ही खतरनाक है |और सभी लोगों पे इसका असर पड़ता है लेकिन गर्भवती महिलाओं पे इसका बहुत ही बुरा असर पड़ता है |उनके और उनके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए ये नुकसानदायक होता है। सेकेंड-हैंड स्मोकिंग भी फर्स्ट-हैंड स्मोकिंग की तरह ही है।जो महिलाएं अक्सर धूम्रपान या तंबाकू के संपर्क में आती है वो उनके गर्भधारण से जुड़ी होती है, इसका सीधा असर उनके बच्चे के शरीर के विकास पर पड़ता है। वो विकलांगता का भी शिकार हो सकते हैं।|

विश्व तंबाकू निषेध दिवस (2)

फर्स्ट-हैंड स्मोकिंग हो या सेकेंड हैंड स्मोकिंग नुकसान ही पहुँचाती है –

इसका साफ़ और सीधा से मतलब है की अगर आप धूम्रपान करते है तो उसे छोड़िये और नहीं करते है तो अच्छी बात है लेकिन सेकेंड हैंड स्मोकिंग से बचे क्योकि ये भी उतना ही नुकसान पहुँचाती है |रही बात तम्बाकू तो ये खतरनाक चीज है ही इसका सेवन किसी तरह से भी करे जैसे -चाहे चबाना, धूम्रपान करना या निष्क्रिय करना ये सब स्वास्थ के लिए हानिकारक ही है | हर साल 31 मई को विश्‍व तंबाकू निषेध दिवस या‍ World No Tobacco Day मनाया जाता है ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा लोग इस बारे में जागरूक हो सकें।

तम्बाकू से बचे –

पूरी दुनिया में तम्बाकू के खिलाफ अभियान चलाये जा रहे हैं और लोगों को इसके प्रति सचेत किया जा रहा है कि तम्बाकू जीवन के लिए खतरनाक और जानलेवा है। हाल ही में भारत सरकार ने तंबाकू उत्पादों की बिक्री को कम करने के लिए तंबाकू उत्पादों पर छपने वाली चेतावनी को अधिक ग्राफिकल बनाने की घोषणा की है। यह आदेश आने वाले 1 दिसंबर से लागू होगा जिसके तहत फेंफड़ो और मुंह के कैंसर से ग्रसित लोगों की फोटो तंबाकू उत्पादों पर लगाई जाएंगी, जिससे तंबाकू खरीदने वालों पर इसका ज्यादा प्रभाव पड़े|

मालूम हो तंबाकू में कैंसर पैदा करने वाले तत्व निको‍टीन , नाइट्रोसामाइंस, बंजोपाइरींस, आर्सेनिक और क्रोमियम अत्यधिक मात्रा में पाए जाते हैं जिनमें निकोटिन, कैडियम और कार्बनमोनो ऑक्साइड स्वा‍स्‍थ्‍य के लिए बेहद हानिकारक है। गौरतलब है कि तंबाकू, धूम्रपान, नशा,अल्‍‍कोहल इत्यादि को छोड़ने के लिए मजबूत विल पॉवर का होना बेहद जरूरी है लेकिन नामुमकिन कुछ भी नहीं है। हालांकि ध्रूमपान की लत छुड़ाने के लिए आज के समय में कई चिकित्सीय विधियां उपलब्ध है।

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते:-डायबिटीज आखिर है क्या? और क्या है इसके लक्षण ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here