शाहीनबाग की दादी को टाइम ने क्यों दी जगह -?

0
149
शाहीनबाग की दादी

टाइम और शाहीनबाग की दादी-

जैसा की आप जानते है टाइम एक प्रतिष्ठ पत्रिका है और जब भी इसकी लिस्ट निकलती है तो इसकी चर्चा होना आम बात है लेकिन इस बार कुछ नया है क्योकि इस बार टाइम ने दुनिया को प्रभावित करने वालों सौ लोगों की सूची में कई भारतीयों के साथ शाहीनबाग की दादी के नाम से मशहूर हुई बिलकिस बानो भी है जो CAA प्रोटेस्ट में बढ़ चढ़ कर हिस्सा ले रही थी उनको उम्र 82 साल है उन्होंने कहा था की जब तक शरीर में एक बून्द भी खून होगा हम लड़ते रहेंगे |वो इस प्रोटेस्ट का चेहरा बन गयी थी |

आयुष्मान खुराना और नरेंदर मोदी के साथ जगह मिली –

सबसे खास बात है इसमें उनको आयुष्मान खुराना और नरेंदर मोदी और डेमोक्रेटिक की उपराष्ट्रपति उम्मीदवार कमला हैरस के साथ जगह दी गयी | ये खबर आते ही वाइरल हो गयी | जब CCA का विरोध प्रदर्शन बहुत पीक पे था | गृह मंत्री अमित शाह के निमत्रण पे इनका नाम अमित शाह से मिलने वाली लिस्ट में भी था | साहीनबाग जो भी प्रोटेस्ट था वो शांतिपूर्वक किया गया था और इसलिए विश्व का ध्यान अपनी ओर खींच सका |

शाहीनबाग की दादी (2)शाहीनबाग में नागरिकता कानून को वापस लेने की मांग को लेकर 101 दिनों तक धरना प्रदर्शन चला था और कोरोना संकट के मद्देनजर प्रदर्शन बंद कर दिया गया था|इसके अलावा मैगजीन की सूची में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप , जो बाइडेन (Joe Biden), एंजेला मर्केल (Angela Merkel) और नैन्सी पॉलोसी (Nancy Pelosi) जैसे बड़े-बड़े नेताओं को शामिल किया है|

टाइम मैगज़ीन की 100 लोगों को लिस्ट हर क्षेत्र से जुड़ते है –

टाइम मैगज़ीन हर साल ये लिस्ट निकालती है और बताती है उसकी नज़र इस साल कौन ऐसे लोग जो मनोरंजन के क्षेत्र में , नेता , और समाजिक कार्य करने वालों में दुनिया को प्रभावित किया | उन 100 लोगों को लिस्ट निकालती है |इस बार की लिस्ट में सेलना गोम्ज़े को भी जगह मिली है |आयुष्मान खुराना को भी जगह मिली है क्योकि इधर इन्होने बहुत सी ऐसी फिल्मो में काम किया जो समाज पे बहुत ही प्रभाव छोड़ी | चीन के राष्ट्रपति सी जिनपिंग को भी इसमें जगह मिली है |ये अमेरिकन मैगज़ीन है | लेकिन दुनिया भर में पॉपुलर है|

रवींद्र गुप्ता कौन है और क्यों मिली जगह –

अल्फाबेट और गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई और प्रोफेसर रविंद्र गुप्ता का भी नाम है | सूंदरको ज्यादातर जनता जानती है लेकिन रवींद्र गुप्ता एक नया नाम जुड़ा है | रविंद्र गुप्ता को इसलिए जगह मिली क्योकि उनके एक खोज से ही लंदन का एक मरीज HIV से ठीक हुआ |एचआईवी से ठीक होने वाला पृथ्वी का वह दूसरा व्यक्ति था, उन्हें 2019 में कैम्ब्रिज इंस्टीट्यूट ऑफ चिकित्सीय इम्यूनोलॉजी और संक्रामक रोग विभाग में प्रोफेसर नियुक्त किया गया था|उनका कार्य भी बहुत ही सरहानीय था | पुरे विश्व में लोग ऐसे काम कर रहे है जिससे पूरी दुनिया प्रभावित होती है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-छोटे कपडे पहनने पे रोक क्यों लगाने जा रहा है कंबोडिया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here