सूर्यग्रहण : २१ जून सदी का सबसे लम्बा सूर्यग्रहण लगने जा रहा है –

0
730
सूर्यग्रहण

सूर्यग्रहण : 21 जून 2020

साल का सबसे लम्बा सूर्यग्रहण २१ जून को भारत में आंशिक रूप से लगने जा रहा है | इसकी शुरवात राजस्थान के घरसाणा में सुबह 10:12 मिनट पर होगी और ये 11:49 बजे से वलयाकार दिखना शुरू होगा|ये वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा जिसमें चंद्रमा सूर्य का करीब 98.8% भाग ढक देगा|दोपहर १२ बजे ये अपने चरम पे होगा | भारतीय ज्योतिशास्त्र के अनुसार १२ घंटे सूतक काल होगा |इसके बाद 03:04 बजे ग्रहण समाप्त होगा। यानी करीब 6 घंटे का लंबा ग्रहण होगा। लंबे ग्रहण की वजह से पूरी दुनिया में इसकी चर्चा हो रही है। देश की राजधानी दिल्ली में सूर्य ग्रहण की शुरुआत सुबह 10:20 बजे के करीब होगी। ग्रहण दोपहर 12:02 बजे अपने पूर्ण प्रभाव में होगा और इसकी समाप्ति दोपहर 01:49 बजे होगी। देश के अन्य शहरों में ग्रहण के समय में कुछ अंतर देखने को मिल सकता है|

सूर्यग्रहण को देखने में रखे सावधानियाँ –

चंद्रमा की तरह सूर्य ग्रहण खुली आंखों से नहीं देखना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि इसका बुरा असर आपकी आंखों पर पड़ सकता है। सूर्य ग्रहण को सुरक्षित तकनीक या तो एल्युमिनेटेड मायलर, ब्लैक पॉलिमर, शेड नंबर 14 के वेल्डिंग ग्लास या टेलिस्कोप द्वारा सफेद बोर्ड पर सूर्य की इमेज को प्रोजेक्‍ट करके करके उचित फिल्टर का उपयोग करके देखा जा सकता है। सबसे बड़े दिन में सबसे बड़ा या लम्बा सूर्यग्रहण |

सूर्यग्रहण क्यों लगता है ?

सूर्यग्रहण (2)

सूर्य ग्रहण एक तरह का ग्रहण है जब चन्द्रमा, पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है तथा पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूर्ण अथवा आंशिक रूप से चन्द्रमा द्वारा आच्छादित होता है।विज्ञानं की नज़र से की दृष्टि से जब सूर्य व पृथ्वी के बीच में चन्द्रमा आ जाता है तो चन्द्रमा के पीछे सूर्य का बिम्ब कुछ समय के लिए ढक जाता है, उसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है। पृथ्वी सूरज की परिक्रमा करती है और चाँद पृथ्वी की। कभी-कभी चाँद, सूरज और धरती के बीच आ जाता है। फिर वह सूरज की कुछ या सारी रोशनी रोक लेता है जिससे धरती पर साया फैल जाता है। इस घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-भारत का सबसे प्राचीन शहर कौन है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here