हैकर – 15 साल का हैकर जिसने नासा को भी किया चकित ?

0
961
हैकर

हैकर:नासा को किसने लगाया करोड़ का चुना ?

नासा को दुनिया सबसे सुरक्षित स्पेस एजेंसी माना जाता है |वहीं उनके सर्वर और कंप्यूटर सिस्टम को तो मानो कोई तोड़ ही नहीं सकता| रोजाना दुनिया भर के कई स्पेशलिस्ट इन्हें बचाने में लगे रहते हैं|लेकिन एक 15 साल के लड़के ने वो कर दिखाया जो अच्छे -२ नहीं कर सकते और उसने केवल मनोरंजन के लिए नासा के सिस्टम को हैक कर लिया | यहाँ तक की नासा को इसकी जानकारी भी बहुत दिन बाद लगी |और कई दिन तक नासा को अपना सिस्टम को बंद करना पड़ा | जिससे नासा को करोड़ डॉलर का नुकसान हुआ |नासा के सिस्टम को हैक करने वाले इस नवयुवक का नाम जोनाथन जेम्स था |

जोनाथन जेम्स कंप्यूटर को क्यों समझता था खिलौना –

हैकर (2)
ये बात 1999 की है जब पुरे विश्व में कंप्यूटर का चलन बढ़ रहा था | हर युवा इसकी ओर आकर्षित हो रहा था | ओर कई जगह युवा इंटरनेट की शक्ति को आज़माने में लगे हुए थे | ओर ज्यादा से ज्यादा जानकारी रखने में लगे थे | उसमे से एक युवक जोनाथन जेम्स भी था |जेम्स उस समय केवल 15 साल के थे |

कंप्यूटर की जटिलता को तेज़ी से से सीखते जा रहे थे | उनकी उम्र में बच्चे छोटे -मोठे खेल खेलते है लेकिन ये लड़का कंप्यूटर से खेल रहा था |ये लड़का कंप्यूटर की दुनिया को समझ रहा था |इसका दिमाग इतना तीव्र था की धीरे -२ ये हैकिंग की तरफ मुड़ने लगा |जेम्स ने धीरे -धीरे हैकिंग को अंजाम देने लगा |हैकिंग में जेम्स एक फेक नाम कामरेड से आया ओर कई तरह के हैकिंग प्रोग्राम बनाने लगा |

जेम्स ने कैसे किया नासा के सिस्टम को हैक-

जेम्स अब कोडिंग भी करने लगा था | छोटे -छोटे प्रोग्राम हैक करने के बाद जेम्स कुछ बड़ा करने का सोच रहा था | हो सकता है वो खुद को साबित करने के लिए उसकी नज़र अपने देश के सबसे सुरक्षित नासा पे पड़ी ओर वो उसको हैक करने में लग गया | ओर अलग -अलग तरह के प्रोग्राम बनाने लगा |उसने एक प्रोग्राम बना भी लिया ओर उसकी टेस्टिंग एक स्कूल में की जिसमे वो पूरी तरह से सफल रहा |

उसने स्कूल की पूरा डाटा हैक कर लिया |वो प्रोग्राम आपके सिस्टम में डालने के बाद वो आपके कंप्यूटर में झांक सकता था | फिर उसने वही प्रोग्राम नासा सिस्टम में चलाने के लिए जेम्स ने सीधे ही प्रोग्राम नासा के कंप्यूटर में भेज दिया|लोग कहते है की जेम्स यही तक नहीं रुका उसने नासा का सिस्टम हैक करने के साथ नासा का एक सॉफ्टवेर भी चोरी कर लिया जिसकी बहुत ज्यादा कीमत थी |और तो और जेम्स के हाथ इंटरनेशनल स्पेस सोर्स कोड तक भी पहुंच चुके थे | अनजाने में उसे पता नहीं था की उसने बहुत बड़ा जुर्म कर दिया था |

अमेरिकन एजेंसी को जेम्स को पकड़ने में माथे पे बल आ गया –

इसके बाद नासा को पता चल गया की उनका सिस्टम हैक हो चूका है |और हैकर की तलाश होने लगी | अमेरिका की हर तरह की एजेंसी हैकर को पकड़ने में लगी हुई थी इधर जेम्स को लगा की उससे कोई खोज नहीं सकता | क्योकि अमेरिकन एजेंसी को लगता था जो यहाँ तक पहुंच सकता है उसे खुला छोड़ा तो वो और भी आगे जा सकता है |

थोड़े ही समय में उन्होंने जेम्स का बनाया प्रोग्राम अपने सिस्टम में खोज लिया|उन्हें अंदाज़ा लग गया की ये कैसे काम करता है | लोकेशन पता चलता ही वो उसको उसके घर से गिरफ्तार कर लिया |और दूसरे दिन उसे अमेरिकन कोर्ट में पेश किया गया और कोर्ट ने उसे ६ माह की सजा सुनाई |जेम्स को नाबालिग होने की वजह से कम सजा मिली थी और वो पहला नाबालिग था जो हैकिंग के लिए सजा पा रहा था | इसलिए ये जो दिमाग है न बहुत ही शक्तिशाली है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-न्यूज़ पेपर पहला कब छपा ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here