सिंगापूर में किस भारतीय मूल के नेता ने इतिहास रच दिया ?

0
428
सिंगापूर

सिंगापूर में किस भारतीय मूल व्यक्ति विपक्ष का नेता बना ?

ये खबर जैसे आयी की भारतीय मूल के प्रीतम सिंह सिंगापूर के विपक्ष के पहले नेता बने है | सिंगापूर के इतिहास में पहली घटना है जो किसी भारतीय मूल के नेता को वहाँ इतनी बड़ी जगह मिली है |सिंगापूर में 10 जुलाई के हुए आम चुनाव में 93 सीटों में से इनकी वर्कर्स पार्टी ने 10 सीटें जीतकर सिंगापूर में विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी बनके उबरी |43 साल के प्रीतम सिंह इस पार्टी के महा सचिव भी है | पेशे से वो वकील भी है |
सिंह कई जिम्मेदारियां संभालेंगे और विपक्ष के नेता के तौर पर उन्हें अतिरिक्त विशेषाधिकार दिए जाएंगे। सिंह से प्रवर समिति तथा लोक लेखा समिति में विपक्षी सदस्यों की नियुक्ति में सलाह ली जाएगी। बता दें कि सत्तारूढ़ पीपुल्स एक्शन पार्टी ने 83 सीटें जीती थीं और नई सरकार ने सोमवार को शपथ ली थी।

प्रीतम सिंह के निजी जिंदगी के बारे में कुछ जानकारियॉ-

इनका जन्म 2 अगस्त 1976 में सिंगापूर में हुआ था |२०१२ में लवलीन कौर से इन्होने विवाह कर लिया और इनके दो बच्चे भी है | वैसे तो इनकी नागरिकता भी सिंगापूर की ही है लेकिन इनके माता -पिता भारत के नागरिक थे |इनकी प्राम्भिक शिक्षा सिंगापूर में ही हुई है और इन्होने अपना ग्रेजुएशन यूनिवर्सिटी ऑफ़ सिंगापूर से किया है | फिर बाद में आगे पढ़ने के लिए ये लंदन चले गये |वैसे तो इनके कई रंग है ये ऑथर , वकील और राजनीतिज्ञ भी है |सिंगापूर की परम्परा कहे या मैंडेटरी है की आपको सैन्य सेवा करनी ही होती है और इसलिए इन्होने भी 1994 से 2002 तक सिंगापूर सेना में मेजर का पद पे काम किया है| लेकिन एक अहम् ओहदा मिलने से साथ -साथ में इनपर जिम्मेदारियां भी बढ़ी है |इस खबर से भारतीय लोग भी हर्ष मना रहे है |

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं:-Zomato’s Period Leave for its Women Employees And it’s Repercussions

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here